Monthly Archives: अक्टूबर 2012

dange dange dange

Dange dange dange dange hi to karate aaye hain, Jahaan rahe wahaan har dam Bhoochaal hi to dete aaye hain, Umar ab to badhati jaati, Ahsaas iskaa bhi to karanaa hai, Umar daraaj hote huye abhay ko, Umar kaa hisaab … पढना जारी रखे

एसाइड | Posted on by | टिप्पणी करे

raam

Raam tumhaare aart rudan me, seetaa kaa virah sunaai detaa hai, krishn tumhaare sudarshan me, aansoo raadhaa ke dikhaai dete hain,

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

aa jaao meri masti me tum

Aa jaao meri marmari baahon me tum, raktim hothon pe koi geet machalataa hai, saanson me dhuaan saa uthataa hai, Aa jaao mere bahakate armaano me tum, youvan behad machalataa hai, har pal aanchal dhalakataa hai, Aa jaao meri sulagati … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | Tagged | टिप्पणी करे

pyar

Tanhaai me kyn bhatakataa hai man, Tanhaai me rahataa hai man, Man se kitanaa kahanaa chaahataa hai man, Man se hi door kyon hota hai man, Man ko tanhaai me rahane ki aadat hui, Man kaa saathi tanhaai to hoti … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

प्रेम से भर दो पिया मुझे तुम

सरगम बदन की जब परेशान कराती है तप्त आह होठों से तब निकलती है मद से भरा यौवन तब स्पर्श चाहता है तपते हुए बदन की ये सरगोशी बिखर जाने को कहती है प्रेम से भर दो पिया मुझे तुम हर … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | Tagged , , , | टिप्पणी करे

आओ चलें जग में गंगा से बाहें .

आओ  चलें  जग  में  गंगा  से  बाहें . ” नफरतों  के  तो  कई  कारण  यहाँ , साथ  रहने  का  तो  एक  ही  कारण  तो  है , कमिओं  से  भरा  ये  संसार  है , ज़िंदा  रहने  का  फिर  भी  कारण  तो  है , स्वयं  को  माफ़  कर  जग  को  जब  माफ़  हम  करें , माफ़ी  तभी  पूरी  होती  यहाँ , दण्डित  किसी  को  करने  से  पहले , स्वयं  को  क्यों … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | Tagged | टिप्पणी करे

कमी बताने की नहीं

कमी  बताने  की  नहीं  ढूँढ  कर  इसे , स्वयं  को  पवित्र  करने  की  बात  है , किसी  की  नजर  में  कोई  कमी , किसी  की  नजर  में  वो  अच्छाई  है , स्वयं  में  उतर  स्वयं  में  तांडव  करें , तो  सब  कुछ  सरल  हो  जाएगा , एक  आवरण  ने  निर्मल  मन  को  ढँक  के  रखा , इस  आवरण  को  हटाने  की  बात  है , हर  घटना  शुभ  कार्य  का  संकेत  है , … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | Tagged , | टिप्पणी करे