कमी बताने की नहीं

कमी  बताने  की  नहीं  ढूँढ  कर  इसे ,

स्वयं  को  पवित्र  करने  की  बात  है ,
किसी  की  नजर  में  कोई  कमी ,
किसी  की  नजर  में  वो  अच्छाई  है ,
स्वयं  में  उतर  स्वयं  में  तांडव  करें ,
तो  सब  कुछ  सरल  हो  जाएगा ,

एक  आवरण  ने  निर्मल  मन  को  ढँक  के  रखा ,
इस  आवरण  को  हटाने  की  बात  है ,
हर  घटना  शुभ  कार्य  का  संकेत  है ,
ये  भी  स्वयं  में  महसूस  करने  की  बात  है ,
जो  भी  घटा  ईश्वर  के  आदेश  से  घटा ,
स्यवं   से  किसी  क़र्ज़  के  कम  होने  की  बात  है ,
इतना  ही  हम  कहेंगे  मित्रवर  ध्यान  से ,
हर  घटना  में  ईश्वर  को  महसूस  करने  की  बात  है .
तांडव  बाहर  किया  वो  व्यर्थ  ही  जाएगा ,
स्वयं  को  स्वयं  से  अलग  वो  कर  जाएगा ,
ना  माने  तो  कर  के  देख  लें ,
स्वयं  का  शत्रु  स्वयं  में  ही  दिख  जाएगा .
स्वयं  में  छिपे  स्वयं  के  मित्र  को  ढूँढने  के  बाद ,
रहस्य  प्रकृति   के  आधार  का  मिल   जाएगा .

 
Advertisements

About abhayabhay

love the world and world will love yuo
यह प्रविष्टि Uncategorized में पोस्ट और , टैग की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s