Author Archives: abhayabhay

About abhayabhay

love the world and world will love yuo

बक्सा बुद्दू या हम

Advertisements

छवि | Posted on | टिप्पणी करे

2002 me so gayaa

छवि | Posted on | टिप्पणी करे

विनम्रता भर मुझे देना

हासिल कोई मुकाम कर लूँ , हासिल इस से क्या होगा | दिया कोई रोशन कर दूँ , प्रकाश वो सब को देगा || स्वाभिमान जगाने की मुहिम , करवटें सदा लेती रहीं हैं | स्वाभिमान लुटा दूँ , किसी … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

उत्तराखंड विप्लव की पृष्ठभूमि में….’

उत्तराखंड विप्लव की पृष्ठभूमि में….’ ‘’ सामाजिक मीडिया पर जनता की आवाज कुछ इस तरह गूँज रही है “ हिन्द को नाज था वो पेप्सी कहाँ है , दुनिया कर के मुठ्ठी में वो सोये कहाँ हैं कहाँ है वो … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

‘’ वसुधेव कुटुम्बकम ’’ जिसे विश्व अपना रहा है हम उस से दूर जा रहे है मात्र कुछ त्वरित स्वार्थ-पूर्ती की लालसा में सम्पूर्ण जन-मानस को गलत राह दिखा कर ?

‘’सीमित होती निरपेक्षता और भारत का सम्मान ‘’ भारतवर्ष को सम्मान सदैव उसके ‘’ वसुधेव कुटुम्बकम ’’ के विचार को प्रचारित एवं तदनुसार जीवन में उतारने के कारण मिला है, इस सम्मान का दूसरा दारुण पक्ष यह भी की सदियों … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

अब तो रहम कीजिये हुजूर गर्दभराज भी मुस्कुराने लगे हैं

“” गर्दभराज को हिंदी साहित्य में सम्माननीय स्थान प्राप्त है “ जिम्मेदारी से लदे शांत वो चले जा रहे थे | आँखों ही आँखों में मुस्कुरा रहे थे || पीड़ा जो मुस्कराहट में नजर आ रही थी | सन्देश गर्दभराज … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

जिम्मेदार नागरिक होने को रेखांकित करता है |

कमजोर विरोधिओं को लालच और प्रशंशा के माध्यम से परजीवी होने के अँधेरे रास्ते पर धकेलना सत्ता समीकरण हल करने का दूसरा अचूक तरीका है इस छोटे रास्ते से बड़ी सफलताएं अकसर हासिल की जाती रही हैं | जन मानस … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे