Category Archives: kavita

दीवाली तो अपने घर की ही मनाउंगी।

याद बहुत आती है उन दीयों की , जो रखे थे खुद मैंने अपने आँगन में , तेल की जगह ममता थी मेरी , प्रकाश मेरी भावनाओं का था , पंक्ति में लगा के जब सजाती थी दिए, आँखें सदा … पढना जारी रखे

kavita में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

dange dange dange

Dange dange dange dange hi to karate aaye hain, Jahaan rahe wahaan har dam Bhoochaal hi to dete aaye hain, Umar ab to badhati jaati, Ahsaas iskaa bhi to karanaa hai, Umar daraaj hote huye abhay ko, Umar kaa hisaab … पढना जारी रखे

एसाइड | Posted on by | टिप्पणी करे