Category Archives: Uncategorized

धन्यवाद : उन्होंने हमें अपनी लाश अपने कन्धों पर रख कर चलना जो सिखा दिया |

’’’ जाइए हमें आप से कोई शिकायत नहीं “” काल-कवलित हजारों हो गए , जाने कितना तड़प जिंदगी से मेरी एक झटके में, जुदा वो मुझ से हो गए , लाशें भी कराहीं अंतिम संस्कार को , जिम्मेदार संवेदनशील कुछ … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

‘’ प्रतिष्ठा , प्रतिष्ठा ,और प्रतिष्ठा ‘’

‘’ प्रतिष्ठा , प्रतिष्ठा ,और प्रतिष्ठा ‘’ इस पूंजीवादी युग में केवल प्रतिष्ठा प्राप्त करने के लिए कुछ भी करना जायज सा होता जा रहा है| सामाजिक,पारिवारिक यहाँ तक की व्यक्तिगत उन्नति के वो सारे नियम जो बनाए थे उन्हें … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

‘’रावण’’ तू क्यों शर्माता है ?

फिर ‘’रावण’’ तू क्यों शर्माता है ? दामिनी जब भी दारुण दुःख से गुजरे , विकल मन क्यों होता है ? सड़ती लाशें देव-भूमि में , ह्रदय बंद क्यों होता है ? चिपके पेटों से जा कर पूछो तो , … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

गुस्से में जब कुछ याद आ गया , कागज़ को सजा दे दी यूँ ही हमने

कोई अगर ये सोचे कि वो , भारतीयों की किस्मत में केवल ‘’ श्रद्धांजलि ‘’देना  लिख सकता है तो वो एकदम गलत सोचता है | सर्वस्व लुटाने वाला , लुटेरों से सदैव श्रेष्ठ रहा है और रहेगा |             जय … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

हाँ हम मरने आते हैं, हाँ हम मिटने आते हैं

हाँ हम मरने आते हैं, हाँ हम मिटने आते हैं लिप्सा भोग के गुलाम नहीं हम, सर्वस्व लुटाने आते हैं तुम तो ठहरे निर्भर वोटों पर, हम स्वाभिमान सजाने आते हैं कसम तुम्हे मत सजदा करना मेरा , कलंकित ना … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

‘’ निकृष्ट कहे गए कर्म सोने की खदान “

‘’ निकृष्ट कहे गए कर्म सोने की खदान “ कर्म और कर्म के प्रकार , किसी ने कहा है ‘’ विहित कर्म से विमुख का सर्वनाश तय है ‘’ बहुत अधिक समय नहीं हुआ जब कुछ कार्यों को निकृष्ट कहा … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे

हमें क्या चाहिए ?

हमें क्या चाहिए ? ‘’ अनुदान ‘’ ?  ‘’ खैरात ‘’ ?   या ‘’ रोजगार ‘’ ? अनुदानों पर जीवन जो पलते धरा पर, समृद्ध ना वो कभी करते जगत को | अनुदान प्राप्त करना या दयावश अनुग्रह प्राप्त … पढना जारी रखे

Uncategorized में प्रकाशित किया गया | टिप्पणी करे